गुरुवार, 11 मार्च 2010

सुनो सुनो सुनो....अब पढ़िए ब्लॉग वार्ता

लेकर आये आपके लिए ब्लॉग 4 वार्ता, चिट्ठों की कहानी ...... हमारी जुबानी........ टीम में शामिल हैं......राजीव तनेजा जी ...... यशवंत फकीरा जी ........संगीता पूरी जी --- अब होगी रोज वार्ता.............. चर्चा तो बहुत हो ली. यह ब्लॉग अभी ब्लॉग वाणी पर नहीं है......... इसलिए पाठकों की सुविधा के लिए..........पान की दुकान से लिंक जारी हो रहा है....... इस पर यहाँ से  और यहाँ से जा सकते हैं..... ब्लाग 4 वार्ता में आपका स्वागत है............

6 टिप्पणियाँ:

Udan Tashtari 11 मार्च 2010 को 9:38 am  

बधाई हो!! शुभकामनाएँ.

ताऊ रामपुरिया 11 मार्च 2010 को 9:50 am  

बधाई जी बहुत बहुत बधाई, नये आयाम आप द्वारा बनाये जायेंगे यही उम्मीद है.

रामराम.

Mithilesh dubey 11 मार्च 2010 को 10:24 am  

बधाई हो ,साथ ही बहुत-बहुत शुभकामनाएं

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 11 मार्च 2010 को 1:17 pm  

सुभान अल्लाह!

राज भाटिय़ा 11 मार्च 2010 को 9:12 pm  

भईया पान खाये बडे दिन हो गये पहले तो एक मीठा पान खिलाये सुपारी कम लेकिन बारीक, अरे बनारसी पत्ता वो हरे वाला हां अब ठीक है, पहले इसे चबा ले
राम राम जी की

राज भाटिय़ा 11 मार्च 2010 को 9:13 pm  

अरे पान के स्वाद मै बधाई देना तो भुल ही गया जी बहुत बहुत बधाई